25/10/2007


जीने भी ना देती है

हमको मरने भी ना देती है॥

चाह उन से मिलन कि हमको
जुदाई में तड़पने भी ना देती है॥


ऋतू सरोहा

4 comments:

अमिय प्रसून मल्लिक said...

रितु, तुम्हारे शब्दों का सामंजस्य गज़ब का है. मैं हमेशा तुम्हारे इस हुनर का दीवाना रहूँगा.
मेरी शुभकामनाएं तो बाकी तुम्हारे साथ हैं ही.

अमिय प्रसून मल्लिक said...

waah- waah, kya baat hai! aaj fir mazaa aa gaya ise padhkar. par kuchh nayaa bhi daaliye ,mamsahib.

INDRA SINGH said...

khaluso pyar main dubi hai guftgu uski
yeh shaksh mere shahar ka nahin lagta


khaluso=pure

petalsofdoom said...

It ia a beautiful creation.

Humsay mat pooch k kab chand ubharta hay yahan
Humnay Sooraj bhi teray shaher main akar dekhaa

Pyaas yadoon ko ab us mor pay lay aayee hai
Ret chamki toh yeh sumjhay k samandar dekhaa